हैडलाइन

150 हमलावरों के आने से नेत्रहीन छात्र के पिटने तक, वार्डन ने बताया पूरा सच

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में 5 जनवरी को हुई हिंसा के मामले में हर दिन नए खुलासे हो रहे हैं. अब साबरमती वार्डन की वो रिपोर्ट आजतक के हाथ लगी जो उन्होंने जेएनयू प्रशासन को सौंपी. साबरमती हॉस्टल की वार्डन स्नेहा ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि हिंसा वाले दिन करीब 4 बजे 40 से 50 नकाबपोश लोगों को वह देखी थीं. यह लोग कुछ विशेष छात्रों की तलाश कर रहे थे. इसके बाद शाम 5.30 बजे तीनों वॉर्डन ने इमरजेंसी बैठक की.

वार्डन ने पीसीआर को भी कॉल किया और अतिरिक्त सुरक्षा के लिए मुख्य सुरक्षा अधिकारी को एक पत्र भी लिखा. पत्र लिखने के बाद भी 6.45 तक ना तो कोई भी सुरक्षा अधिकारी और ना ही पुलिस मौके पर पहुंची. इसके बाद 7 बजे 150 लोग हॉस्टल में दाखिल हुए. रिपोर्ट में बताया गया कि भीड़ ने रूम नंबर 51 में एक नेत्रहीन छात्र पर भी हमला किया.

वहीं जेएनयू शिक्षक संघ ने मानव संसधान विकास मंत्रालय के साथ हुई बैठक में कहा कि विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर को हटा दिया जाए. इस बैठक में कहा गया कि 5 जनवरी को जेएनयू में हुई हिंसा का मकसद पहले ही रणनीति के तहत की गई. इस हमले में शिक्षकों, उनके परिवारों, आवास और उनकी गाड़ियों को भी निशाना बनाया गया. शिक्षक संघ का यह भी कहना है कि जिन शिक्षकों ने वीसी पर सवाल खड़े किए उन्हें निशाना बनाया गया. ऐसे माहौल में शिक्षक सुरक्षित महसूस नहीं करते हैं. शिक्षकों के मन में डर का माहौल तब तक रहेगा जब तक वीसी हटाए नहीं जाते. 5 जनवरी को जो हुआ, उससे भी बुरी स्थिति हमें देखने को मिल सकती है.

जेएनयू में हुई हिंसा के दौरान हाथ में डंडा लेकर नजर आने वाली नकाबपोश लड़की की पहचान हो गई है. दिल्ली पुलिस ने इस लड़की की पहचान कोमल शर्मा के रूप में की है. कोमल शर्मा दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्रा है. वो डीयू में सेकेंड इयर की स्टूडेंट है. अब पुलिस इस लड़की से पूछताछ करने के लिए उसकी तलाश कर रही है. आज तक ने एक स्टिंग के जरिए इसका खुलासा किया था.

जेएनयू में हिंसा भड़कने के बाद दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को नौ संदिग्धों की तस्वीरें जारी की. पुलिस का कहना है कि इन संदिग्धों में जेएनयूएसयू की अध्यक्ष आइशी घोष भी शामिल हैं. डीसीपी क्राइम, जॉय तिर्की ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि नौ संदिग्धों में से चार जेएनयू के हैं. 5 जनवरी को जेएनयू में कुछ नकाबपोश बदमाशों ने हिंसा को अंजाम दिया था. इन लोगों ने यूनिवर्सिटी कैंप में छात्रों के साथ मारपीट की थी. दिल्ली पुलिस इस मामले की जांच कर रही है . इस हमले में जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष भी घायल हो गई थीं. कई छात्रों को इस हमले में गंभीर चोटें आई थीं.

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में भड़की हिंसा के लिए एक व्हाट्सअप ग्रुप बनाया गया और इसी के जरिये लोगों को जोड़ा गया था. दिल्ली पुलिस ने इस ग्रुप के 7 और लोगों की पहचान की है जिन पर हिंसा में शामिल होने का आरोप है. इससे पहले 37 लोगों की पहचान की जा चुकी है. ऐसे में व्हाट्सअप ग्रुप में शामिल कुल 60 में से 44 लोगों की अब तक पहचान हो चुकी है. पुलिस इसे आधार मान कर अपनी तफ्तीश आगे बढ़ा रही है.



Most Popular News of this Week

बटखरा मारकर वृद्ध को किया घायल

मुंबई, बोरीवली पश्चिम के न्यू लिंक रोड पर बने गणपत पाटिल नगर की गली नंबर ४...

कल्याण : केडीएमसी में...

कल्याण. महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोरात द्वारा...

देह व्यापार से जुड़ी तीन महिला...

मुंबई, मुंबई पुलिस की समाज सेवा शाखा ने एक महिला दलाल को गिरफ्तार कर तीन...

ठाणे : 8 वर्ष बाद भी नहीं...

ठाणे : ठाणे शहर का वाहन पार्किंग योजना पिछले 8 वर्षों से सिर्फ कागजातों पर...

पाकिस्तानी ऐक्ट्रेस माहिरा...

पाकिस्तानी ऐक्ट्रेस माहिरा खान ने इंस्टाग्राम पर एक ऐसा पोस्ट किया है जिसे...

बेटियों के पिता ने बेटा न होने...

गौतमबुद्ध नगर जिले की अदालत ने नाबालिग बेटी के साथ बलात्कार करने के दोषी...